इस रेलवे स्टेशन पर गुजरती ट्रेन के साथ दौड़ने लगता था भूत, Bhoot ki Kahani in Hindi

इस पोस्ट में हम आपको एक ऐसे Bhoot ki kahani in Hindi बता रहे है जिसका घर रेलवे स्टेशन है.


जैसा कि हम जानते है कि दुनिया में Bhoot है या नही इस बारे में कभी एक राय नही हुई.

कई लोग bhoot pret के अस्तित्व को मानते है जब कि एक बड़ा वर्ग ऐसा भी है जो इसका सिरे से इनकार करता है.

Bhoot Ki Kahani Bhoot Ki Kahani

खैर, ये कहानी भारत के बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन की है. पश्चिम बंगाल राज्य के पुरुलिया जिले के झालदा और बेगुनकोडोर के पास स्थित इस रेलवे स्टेशन के बारे में ये कहा जाता है कि एक Bhoot की वजह से इसे लगभग 40 साल तक बंद कर दिया गया था.

Bhoot Ki Kahani in Hindi

हाँलाकि इसकी सच्चाई के बारे में कोई ठोस सबूत नही है. आइए पहले इस रेलवे स्टेशन का कुछ इतिहास जानते है.

Darawni Bhoot ki Kahani

सन 1960 में संथाल जनजाति की रानी लखन कुमारी और भारतीय रेलवे के सामूहिक प्रयास से बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन बनाया गया था.

Begunkodar railway station ghost story in hindi

प्रचलित kahani के अनुसार शरू में सब कुछ ठीकठाक चलता रहा लेकिन सात साल बाद यानी कि सन 1967 में इस रेलवे स्टेशन के एक कर्मचारी ने यहाँ लड़की के Bhoot को देखने की बात कही जिसकी एक ट्रेन हादसे में मृत्यु हुई थी.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन history

उस समय लोगों ने इसे एक अफवाह समझकर गंभीरता से नही लिया.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन हिस्ट्री इन हिंदी

लेकिन जब स्टेशन मास्टर और उसके परिवार के शव उनके ही क्वार्टर में से मिले तो सबके होश उड़ गए.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन

इस असामान्य घटना के बाद यहां ट्रेनों ने रुकना बंद कर दिया और बाद में रेलवे विभाग ने इस स्टेशन को ही बंद कर दिया.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन पश्चिम बंगाल

कहा जाता है कि ग्रामीणों की मांग पर साल 2007 में इस बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन को फिर से शुरू किया गया.

लेकिन लोग 1967 में घटी उस घटना को भूल नही पाए.

लोगों में प्रचलित बातों के अनुसार सूर्यास्त होने के बाद अगर इस रेलवे स्टेशन से ट्रेन गुजरती तो लड़की का Bhoot उसके साथ दौड़ने लगता था.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन कहां है

इतना ही नही उसे पटरियों पर भी नाचते हुए देखा गया था.

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन के बारे में लोगों के अंधविश्वास को दूर करने के लिए आखिरकार रेलवे के रांची रेल मंडल की तरफ से अब ये घोषणा की है कि जो भी स्टेशन में भूत दिखा देगा उसे 50,000 रुपए का इनाम दिया जाएगा.

फिलहाल इस रेलवे स्टेशन पर करीब 10 ट्रेनें रुकती है फिर भी सूर्यास्त के बाद लोग यहां रुकने से कतराते है.

Read : साइकिल का आविष्कार किसने किया ? कहानी साइकिल की

Hindispeak.com की Bhoot ki kahani in hindi पोस्ट शेयर जरूर करें

और यहाँ 5 स्टार ★★★★★ दीजिए

5/5 - (3 votes)

2 thoughts on “इस रेलवे स्टेशन पर गुजरती ट्रेन के साथ दौड़ने लगता था भूत, Bhoot ki Kahani in Hindi”

Leave a Comment

Join WhatsApp Group