Gujarat ki Sabse Badi Nadi | गुजरात की सबसे लंबी नदी कौन सी है

अगर आपसे पूछा जाए की Gujarat ki Sabse Badi Nadi या Gujarat ki Sabse Lambi Nadi कौन सी है ? तो आपका जवाब क्या होगा ? सही जवाब है Sabarmati Nadi. 

अब साबरमती नदी क्यों बड़ी है और इसका उद्गम स्थान (Sabarmati Nadi ka Udgam Sthal) कहाँ है ? चलिए जानते है.

भारत देश की पश्चिम दिशा में स्थित साबरमती नदी गुजरात राज्य की सबसे बड़ी और सबसे लंबी नदी है. इस नदी का ज्यादातर हिस्सा गुजरात राज्य में से बहता है. और खम्भात के अखात से होकर अरबी समुद्र में मिल जाती है.

Sabarmati Nadi की लंबाई

नाम साबरमती नदी
राज्य राजस्थान – गुजरात
लंबाई 231 मील / 371 किलोमीटर
उद्गम स्थल अरवल्ली की पहाड़ियां, उदयपुर – राजस्थान
स्त्रावक्षेत्र 21,674 वर्ग किलोमीटर

साबरमती नदी की कुल लंबाई के बारे में जानकर शायद आपको यकीन नहीं होगा की ये नदी 231 मील यानी 371 किलोमीटर लंबी है. इसका कुल केचमेंट एरिया यानी स्त्रावक्षेत्र 21,674 वर्ग किलोमीटर का है. नदी का 48 किलोमीटर का हिस्सा राजस्थान में और 323 किलोमीटर का हिस्सा गुजरात में है.

साबरमती नदी के दाहिने किनारे में सेइ, सीरी और धाम नामक शाखाएं है तो बाएं किनारे पर वांकळ, हरणाव, हाथमती, वात्रक और खारी नामक शाखाएं है.

Sabarmati Nadi ka Udgam Sthal

साबरमती नदी का उद्गम स्थान राजस्थान राज्य है. राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित अरवल्ली की पहाड़ियां इस नदी का उद्गम स्थल है. यहाँ से शुरू होने वाला नदी का कुछ हिस्सा वांकळ नाम से जाना जाता है.

Sabarmati Nadi का ऐतिहासिक महत्व

भारत के आज़ादी आंदोलन के दौरान मोहनदास करमचंद गाँधी ने इसी साबरमती नदी के किनारे साबरमती आश्रम की स्थापना की थी. जो की गाँधी जी का घर और समग्र आज़ादी आंदोलन का केंद्र बना रहा.

जैन आचार्य बुद्धि सागर सूरी ने साबरमती नदी के बारे में कई कविताएं लिखी है.

गुजरात के धोलका तहशील का एक गांव है वौठा. यहाँ साबरमती, हाथमती, माजूम, मेश्वो, शेढ़ी, खारी और वात्रक नामक सात नदिओं का संगम स्थान है. हर साल कार्तिकी पूनम के दिन यहाँ मेला लगता है जिसे वौठा के मेले के नाम से जाना जाता है. इस मेले की एक विशेषता ये भी है की यहाँ गधों को खरीदा और बेचा जाता है. यहाँ आने वालो में विदेशी पर्यटक भी शामिल है.

Sabarmati Nadi पर स्थित मुख्य डैम

  • धरोई डैम
  • वासणा बैरेज
  • सेइ डैम
  • हरणाव डैम
  • हाथमती डैम
  • गुहाई डैम
  • वर्तक डैम (प्रोजेक्ट)
  • कल्पसर डैम (प्रोजेक्ट)

इसमें से धरोई डैम साबरमती नदी के उद्गम स्थान से 80 किलोमीटर और अहमदाबाद से 165 किलोमीटर दूर मेहसाणा जिले के धरोई गांव में यह डैम स्थित है. डैम का केचमेंट एरिया यानी स्त्रावक्षेत्र 5,475 वर्ग किलोमीटर का है. यहाँ से 20 किलोमीटर की दुरी पर सं 1978 में बनाया गया वासणा बैरेज है जिसका केचमेंट एरिया यानी स्त्रावक्षेत्र 10,619 वर्ग किलोमीटर का है.

Gujarat ki Sabse Badi Nadi की ये पोस्ट आपको पसंद आई ? तो शेयर करें

और यहाँ पोस्ट को 5 स्टार दीजिए

5/5 - (1 vote)

3 thoughts on “Gujarat ki Sabse Badi Nadi | गुजरात की सबसे लंबी नदी कौन सी है”

Leave a Comment

Join WhatsApp Group