गुस्से का इलाज – (Gusse ka ilaj motivational story hindi)

Gusse ka ilaj / गुस्से का इलाज – ये एक Gusse ke bare me Hindi motivational story यानी गुस्से के बारे में एक प्रेरक कहानी है. जिसे आप जरूर पढ़ना पसंद करोगे.

Gusse ki kahani / सीख देने वाली कहानी / जीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी

एक छोटा बच्चा था। और उसे गुस्सा बहुत ज्यादा आता था।

एक दिन पिता ने उसे सबक सिखाने के लिए किलो से भरा एक थैला दिया। और कहा,

” जब भी तुमसे गुस्सा आए तो इसमें से एक किल निकाल कर सामने लगे बोर्ड में ठोक देना ”

पहले यह दिन बच्चे ने बोर्ड में 38 किल ठोक दिए।

लेकिन धीरे-धीरे वह गुस्से पर काबू करना सीख गया। कुछ दिन बाद उसको गुस्सा आना बिल्कुल बंद हो गया।

ये बात अपने पिता को बताने के लिए वह बच्चा पिता के पास पहुंचा और बोला,

” आज मुझे एक भी कील ठोकने की जरूरत नहीं पड़ी यानी कि मुझे अब गुस्सा नही आता ”

उसके पिता ने कहा, ” अब एक नया काम करो जिस दिन तुम्हें गुस्सा ना आए उस दिन बोर्ड में से एक किल वापस निकाल लो। ”

ऐसा करते करते एक दिन पूरा बोर्ड खाली हो गया।

बेटे ने खुश होते हुए पिता को यह बात बताई। पिता उसे बोर्ड के पास लेकर गए और बोले, ” देखो इन किलों ने जो नुकशान बोर्ड को पहुंचाया है वैसा ही नुकसान हमारा गुस्सा सामने वाले व्यक्ति को पहुंचाता है। जिस तरह से यह बोर्ड अब कभी ठीक नहीं हो सकता ठीक वैसे ही गुस्से से जो नुकसान होता है उसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती।


यह कहानी मुख्य रूप से इन विषयों से संबंधित थी.

  • गुस्सा और कील कहानी / Gusse ki kahani
  • सीख देने वाली कहानी / Sikh dene wali kahani
  • जीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी / Gusse ka ilaj kahani

आशा करते है की ये गुस्से का इलाज kahani – Hindi Motivational story आपको पसंद आई होगी। आप इसे अपने दोस्तों से और फेसबुक पर भी शेयर कर सकते है।


आप यह पढ़ना भी पसंद करोगे

  1. मां की आखरी शिकायत
  2. बाप – बेटे की एक भावुक कहानी
  3. राजा और बाज़ की कहानी / Raja aur baaz ki kahani
  4. भयानक तस्वीर – छोटी सी प्रेरणादायक कहानी
  5. बड़ा अफसर – प्रेरणादायक कहानी
  6. जब काम न बने तो ये कहानी पढ़ लेना
Rate this post

Leave a Comment

Join WhatsApp Group