मां की आखरी शिकायत – (Maa ki emotional short story)

मां की आखरी शिकायत – ये एक maa ki emotional short story यानी गुस्से के बारे में एक प्रेरक कहानी है. जिसे आप जरूर पढ़ना पसंद करोगे.

Maa ki emotional short story / Man ki kahani dard bhari / Man ke bare me kahani

अपने पिता की मौत के बाद बेटे ने अपनी मां को वृद्धाश्रम में छोड़ दिया और कभी कबार उससे मिलने चला जाता था।

एक शाम से वृद्धाश्रम से फोन आया कि तुम्हारी माताजी की तबीयत बहुत खराब है। एक बार आकर उससे मिल लो।

बेटा वृद्धाश्रम आया तो देखा कि मां बहुत बीमार थी और शायद वो अपनी जिंदगी की आखरी पड़ाव पर थी।

बेटे ने पूछा, ” मां मैं आपके लिए क्या कर सकता हूं ?

मां ने एक गहरी सांस ली और जवाब दिया, ” बेटा मेहरबानी करके वृद्धाश्रम में कुछ पंखे लगवा देना, और हो सके तो यहाँ एक फ्रिज भी रखवा देना ताकि यहां के लोगों का खाना खराब ना हो। इसलिए कि यहाँ कई बार मुझे बिना खाए ही सोना पड़ा है।

बेटे ने आश्चर्यचकित होकर पूछा, आप तो इस आश्रम में लंबे समय तक रही लेकिन मुजे ये शिकायतें पहले कभी नही की और आज जब आप ये दुनिया छोड़कर जा रही हो तो इस आश्रम के लिए इतना प्रेम क्यों ?

मां ने जवाब दिया” बेटा, वो इसलिए कि मैंने तो यहाँ रहते हुए गर्मी, भूख, दर्द सब कुछ बर्दाश्त कर लिया। लेकिन जब तुम्हारी औलाद तुम्हें यहाँ भेजेगी तो मुझे डर है कि तुम यह सब नहीं सह पाओगे। ”

इसके बाद मां ने ऐसे कई किस्से के बारे में बातें की जब उसने अपने बेटे के लिए धूप-छाँव नही देखी थी। एक मां की हैसियत से अपनी पूरी जिम्मेदारी निभाई थी। बस इतना कहते कहते अचानक मां की साँसे थम गई।

बेटे की आँखों में आँसू थे और हाथ में अपनी मां का हाथ। बस अब सबकुछ खत्म हो गया। उसके पास अब कुछ बचा नही था।


यह कहानी मुख्य रूप से इन विषयों से संबंधित थी.

  • दुखी मां की कहानी / Man ki kahani dard bhari
  • माँ की ममता पर कहानी / Man ke bare me kahani
  • जीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी / Hindi kahani

आशा करते है की ये मां की आखरी शिकायतmaa ki emotional short story आपको पसंद आई होगी। आप इसे अपने दोस्तों से और फेसबुक पर भी शेयर कर सकते है।


आप यह पढ़ना भी पसंद करोगे

  1. गुस्से का इलाज
  2. बाप – बेटे की एक भावुक कहानी
  3. राजा और बाज़ की कहानी / Raja aur baaz ki kahani
  4. बड़ा अफसर – प्रेरणादायक कहानी
  5. भयानक तस्वीर – छोटी सी प्रेरणादायक कहानी
  6. जब काम न बने तो ये कहानी पढ़ लेना
Rate this post

Leave a Comment

Join WhatsApp Group