राजा और बाज़ की कहानी / Raja aur baaz ki kahani

 

 

 

राजा और बाज़ की कहानी / Raja aur baaz ki kahani – ये हमारे जीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी है जो हमें अपनी क्षमताओं को पहचानने में सहायक है. आप इसे जरूर पढ़ना चाहोगे.

Raja aur baaz ki kahani

किसी मुल्क में एक एक बहोत ही न्यायप्रिय राजा रहा करते थे.

वह न्यायप्रिय होने के साथ साथ अपने राज्य के हर छोटे से छोटे और गरीब से गरीब व्यक्तियों के साथ भला बर्ताव करता था.

जिस वजह से अपनी प्रजा में वो बेहद लोकप्रिय थे.

लोगो का उनके प्रति प्रेम इस कदर गहरा था कि हर कोई आए दिन राजा को अपनी हैसियत के मुताबिक तोहफे दिया करता.

वहीं राजा भी उनको अपने शाही खजाने से तोहफे देकर बदला दिया करते.

ऐसे ही एक दिन राजा को तोहफे में दो परिंदे (पक्षी) मिले. वो परिंदे असल में ऊंचे किस्म के बाज थे.

राजा ने अपनी पूरी जिंदगी में ऐसे बाज पहले कभी नही देखे थे.

इतना नायाब तोहफा पाकर वो खुश हुए और अपने खास वजीर को कहा कि दोनों बाज पक्षी के लिए खान-पान का इंतजाम करें

फिर उन्हें शाही बागीचे में उड़ने के लिए छोड़ दिया जाए.

वजीर ने ठीक वैसा ही किया जैसा उन्हें कहा गया.

अगले दिन राजा ने दरबार का कामकाज निपटाकर वजीर से उन दो बाज पक्षी का हालचाल पूछा.

वजीर ने बताया कि दोनों बाज में से एक बाज ऊंची उड़ान भर रहा है मगर दूसरा बाज एक पेड़ की टहनी पर बैठा हुआ है. और उड़ नही रहा.

राजा हैरान हुए की बाज तो दोनों एक ही किस्म के है तो दूसरा बाज उड़ान भरने की बजाय पेड़ पर क्यों बैठा रहता है ?

इसी तरह घंटे दिन और दिन महीनों में ढल गए लेकिन वह बाज न उड़ सका.

आखिर राजा ने राज्य में वजीर को कहा कि पूरे राज्य में घूमकर कहीं से भी किसी ऐसे व्यक्ति को ले आओ जो बरसों जंगलो में गुजार चुका हो और जिसे परिंदो की चाल-चलगत का अनुभव हो.

यह कहानी मुख्य रूप से इन विषयों से संबंधित है.

  • बाज की कहानी / baj ki kahani
  • बाज की उड़ान कहानी / baaj ki udaan stoy in hindi
  • राजा की कहानी / raja aur baaz ki kahani
  • जीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी / Hindi kahani

तलाश के बाद वजीर ने एक बूढ़े आदमी को राजा के सामने पेश किया.

और बताया कि ये पक्षियों के हावभाव जानने में माहिर है.

राजा ने उस आदमी को दोनों बाज पक्षियों के बारे में बताया और कहा कि एक बाज पेड़ की टहनी पर ही दिन-रात गुजार देता है जब कि दूसरा बाज ऊंची उड़ान भरता है.

आदमी ने राजा से एक दिन की महोलत मांगी.

एक दिन के बाद जब राजा अपने शाही बागीचे में टहलने निकले तो देखा कि दोनों बाज ऊंची उड़ान भर रहे थे.

राजा हैरान हुए की इस आदमी ने ऐसा क्या कर दिखाया कि एक ही दिन में बाज पेड़ की टहनी छोड़कर ऊंचा उड़ रहा है !!

राजा ने उस बूढ़े आदमी को दरबार मे बुलाया और इसकी वजह पूछी.

बूढ़े आदमी ने जवाब दिया कि मैंने और तो कुछ खास नही किया बस पेड़ की जिस टहनी पर बाज बैठा करता था मैंने वो टहनी काट दी.

आशा करते है की ये राजा और बाज़ की कहानी / Raja aur baaz ki kahaniजीवन आधारित मोटिवेशनल कहानी आपको पसंद आई होगी।

आप इसे अपने दोस्तों से और फेसबुक पर भी शेयर कर सकते है।


आप यह पढ़ना भी पसंद करोगे

  1. गुस्से का इलाज
  2. बाप – बेटे की एक भावुक कहानी
  3. भयानक तस्वीर – छोटी सी कहानी प्रेरणादायक
  4. बड़ा अफसर – प्रेरणादायक कहानी
  5. मां की आखरी शिकायत – (Maa ki emotional short story)
  6. मकड़ी की कहानी | जब काम न बने तो ये कहानी पढ़ लेना ki kahani | Spider story in hindi
Rate this post

Leave a Comment

Join WhatsApp Group